A PHP Error was encountered

Severity: Notice

Message: Undefined offset: 0

Filename: front/header.php

Line Number: 12

Backtrace:

File: /home/singlyhe/public_html/ayushman.net/application/views/front/header.php
Line: 12
Function: _error_handler

File: /home/singlyhe/public_html/ayushman.net/application/views/front/articleDetails.php
Line: 3
Function: require_once

File: /home/singlyhe/public_html/ayushman.net/application/controllers/Website.php
Line: 73
Function: view

File: /home/singlyhe/public_html/ayushman.net/index.php
Line: 315
Function: require_once

A PHP Error was encountered

Severity: Notice

Message: Trying to get property of non-object

Filename: front/header.php

Line Number: 12

Backtrace:

File: /home/singlyhe/public_html/ayushman.net/application/views/front/header.php
Line: 12
Function: _error_handler

File: /home/singlyhe/public_html/ayushman.net/application/views/front/articleDetails.php
Line: 3
Function: require_once

File: /home/singlyhe/public_html/ayushman.net/application/controllers/Website.php
Line: 73
Function: view

File: /home/singlyhe/public_html/ayushman.net/index.php
Line: 315
Function: require_once

https://ayushman.net/uploads/allimgs/" />
JAMNA PHARMA GROUP : JAMNA PHARMACEUTICALS JAMNA HERBAL RESEARCH LTD. | AYUSHMAN MAGAZINE | AYURVEDA CHINTAN

युवाओं की आम त्वचागत समस्याएं

युवाओं की आम त्वचागत समस्याएं

Published on 22 Feb 2020 by Ayushman Magazine Youth Corner

सा$फ-सुथरा और दमकता हुआ चेहरा किसे अच्छा नहीं लगता, यही कारण है कि खूबसूरत त्वचा पाने की दौड़ में अब केवल लड़कियां ही नहीं, लडक़े भी शामिल हैं। खूबसूरत दिखने की चाह में वे न सिर्फ ब्यूटीपार्लर के चक्कर लगाते हैं, बल्कि गोरा बनने के चक्कर में ऐसे सौंदर्य प्रसाधनों का इस्तेमाल भी करते हैं, जो अनेक बार त्वचा के लिए घातक सिद्ध होते हैं। खुद को संवारने के लिए यंगस्टर्स कई कॉस्मेटिक क्रीम, लोशन या तेल का उपयोग करते हैं, यह जाने बिना कि जो प्रोडक्ट वे उपयोग कर रहे हैं, वो उनकी त्वचा के लिए सही हैं भी या नहीं। आजकल युवक-युवतियां कील-मुंहासे, झाइयां, बाल झडऩा, गंजापन, रुसी आदि समस्या से परेशान हैं। ये समस्याएं अत्यधिक सौंदर्य प्रसाधनों के इस्तेमाल और अनियमित जीवनशैली, तनाव आदि के कारण उत्पन्न होती हैं।
युवाओं को होने वाली त्वचागत समस्याएं: -

कील-मुंहासेकील 

मुंहासे होने का सबसे बड़ा कारण चेहरे पर धूल और गंदगी का जमा होना है। अगर त्वचा तैलीय है, तो इसके होने की आशंका अधिक बढ़ जाती है। अत: कील-मुंहासों से बचाव के लिए दिन में कई बार चेहरा साफ करें। धूल-धुएं से चेहरा बचाकर रखें। चाय-कॉफी, तले पदार्थ और मिर्च-मसालेदार भोजन से दूर रहें। स्वस्थ त्वचा पाने के लिए हरी सब्जियां और फलों का अधिक से अधिक सेवन करें। खूब पानी पिएं जिससे त्वचा में सौम्यता बरकरार रहे।
घरेलू उपचार
-नारंगी के सूखे छिलके पानी में पीसकर चेहरे पर मलने से मुंहासे दूर हो जाते हैं।
- मुंहासे होने पर जायफल को दूध में घिसकर गाढा लेप करें।
-तुलसी के पत्तों का रस और नीबू का रस समान मात्रा में मिलाकर लगाने से मुंहासे ठीक हो जाते हैं।
-शहद में दालचीनी पाउडर मिलाकर मुंहासों पर लगाएं। 20 मिनट बाद चेहरा धो लें।
-एक बड़ा चम्मच नीबू का रस, आधा चम्मच शहद और आधा चम्मच दूध मिलाकर चेहरे पर लगाएं। 15 मिनट बाद मुंह धो लें।


झाइयां
झाइयां वैसे तो बढ़ती उम्र के साथ होती हैं, लेकिन यह समस्या अब युवाओं को भी होने लगी है, खासकर युवतियों को। कई बार अधिक देर तक जागने और पढऩे से होने वाली थकान के कारण भी आंखों के नीचे धब्बे और झाइयां पड़ जाती हैं। तेज धूप में जाने या हार्मोन्स असंतुलन के कारण कई बार चेहरे पर झाइयां हो जाती हैं।
झाइयों से निपटने के लिए घरेलू उपचार
- झाइयों पर नीबू का रस 5 मिनट लगाएं फिर ठंडे पानी से चेहरा धो लें।
- गुलाबजल में नीबू का रस, थोड़ी कस्तूरी व ग्लिसरीन मिलाकर नहाने से एक घंटा पहले मुंह व गर्दन पर मलें। नहाते समय कुनकुने पानी से मुंह धोकर ठंडे पानी के छींटे मारें। तौलिए से त्वचा रगडं़े, परन्तु साबुन का इस्तेमाल न करें, इससे झाइयां दूर होती हंै तथा त्वचा कोमल होती है।
-झुर्रियां मिटाने के लिए नीबू का रस और शहद मिलाकर चेहरे पर लगाएं तथा नियमपूर्वक जैतून के तेल से चेहरे पर मालिश करें।
आयुर्वेदिक चिकित्सा
त्वचा संबंधी सभी समस्याओं के लिए निम्न आयुर्वेदिक उपचार लें।
1. ब्लड प्योर टेबलेट 2-2 सुबह-शाम कुनकुने जल से लें।
2. ब्लड प्योर सीरप 2-2 चम्मच सुबह-शाम लें।
3. जे.पी. निखार तैल रात में चेहरे पर लगाएं।
4. लिली फेस पैक दिन में 2 बार चेहरे पर लगाएं तथा सूखने के बाद धो लें।


रूसी
डैंड्रफ या रूसी सिर की एक आम समस्या है, जो सूखी और खुजली वाली तैलीय त्वचा, बैक्टीरिया तथा सिर पर फंगल इन्फेक्शन के कारण होती है। रूसी का सामना लगभग हर मौसम में करना पड़ता है।
घरेलू उपचार
-डैंड्रफ से बचने के लिए जैतून के तेल में अदरक के रस की कुछ बूंदें मिलाकर बालों की जड़ों में लगाकर एक घंटे के लिए छोड़ दें और फिर शैंपू से धो दें।
-हफ्ते में दो बार दही लगाएं। दही आधे घंटे के लिए लगाएं और फिर बालों को धो लें।
- नीबू का रस और काली मिर्च पाउडर मिलाकर बालों की जड़ों में लगाएं।
- नीम तथा काले तिल का तेल मिक्स कर हफ्ते में तीन बार लगाएं।
- नारियल के तेल में कपूर का तेल मिलाकर लगाने से रूसी दूर होती है।


बाल झडऩा/गंजापन
बाल झडऩे की समस्या से आज हर कोई परेशान हैं। लेकिन कम उम्र में बाल झडऩा और इतनी तेजी से झडऩा की गंजापन दिखने लगे, तो यह युवाओं के लिए खासकर युवतियों के अधिक चिंताजनक बात हो जाती है। बालों का गिरना किसी के लिए भी तनाव और चिंता का कारण हो सकता है। खानपान और पर्यावरण प्रदूषण, दवा के रिएक्शन व कई अन्य कारणों से कम उम्र में गंजेपन की समस्या हो सकती है। हालांकि उचित उपचार करने पर बालों का अत्यधिक गिरना बंद हो जाता है। यदि ऐसा न हो अर्थात स्थिति गंभीर होने पर किसी त्वचा विशेषज्ञ से संपर्क करना चाहिए।
घरेलू नुस्खे
- जटामांसी को नारियल तेल में उबाल लें। इस तेल को ठंडा करके किसी बोतल में भरकर रख लें। रोजाना रात को सोने से पहले इसकी मालिश करें। बालों का गिरना बंद हो जाएगा।
- गंज (सिर पर कहीं से बाल उड़ जाने को गंज कहते हैं) वाले भाग पर प्याज का रस रगडऩे से बाल वापस उगने लगते हैं और बाल झडऩा बंद हो जाते हैं।
- प्याज के रस में नमक और कालीमिर्च का पाउडर मिलाकर मालिश करने से सिर की दाद के कारण सिर के उड़ गये बाल फिर से आने लगते हैं।
- प्याज का रस शहद में मिलाकर गंज जगह पर लगाने से फिर से बालों का उगना शुरू जाता है।
- नमक और काली मिर्च एक-एक चम्मच और नारियल का तेल पांच चम्मच मिलाकर गंजेपन वाले स्थान पर लगाने से बाल फिर से आने की संभावना बढ़ जाती है।
- सरसों के तेल में मेंहदी की पत्तियां डालकर गर्म करें। ठंडा करके बालों में लगाएं। रोजाना इसे लगाने से बालों का गिरना रुक जाता है।
- अमरबेल को पानी में उबालें। इस पानी से बाल धोने से बाल गिरने की समस्या खत्म हो जाती है।
-गुड़हल के फूलों के रस से बालों की मसाज करें। एक घंटे बाद सिर धो लें। बाल काले, घने और मजबूत हो जाएंगे।
आयुर्वेदिक चिकित्सा
बालों से संबंधित सभी समस्याओं में निम्न आयुर्वेदिक उपचार लें।
1. केशकंचन टेबलेट 2-2 सुबह-शाम दूध से लें।
2. केशकंचन तैल दिन में 2 बार बालों की जड़ों में लगाएं।
3. जे. पी. केशराज पाउडर से सप्ताह में तीन बार बालों को धोएं।

त्वचा चमकदार बनाए योग
नियमित योग करने से त्वचा के बाहरी हिस्से तक रक्त-संचार में बढ़ोतरी होती है तथा यह त्वचा की सुंदरता के लिए काफी अहम भूमिका अदा करता है। योग करने से त्वचा को पर्याप्त पोषाहार प्राप्त होते हैं। इससे त्वचा में मौजूद विषैले पदार्थ बाहर निकालने में भी मदद मिलती है। योग से त्वचा में ऑक्सीजन का संचार होता है, त्वचा में सुंदर आभा का संचार होता है तथा त्वचा में यौवनपन बना रहता है। त्वचा अनेक रोगों से मुक्त रहती है। यही प्रक्रिया बालों में भी लागू होती है। योग से बालों की कोशिकाओं तथा सिर की खाल में रक्त-संचार तथा ऑक्सीजन को बढ़ावा देने में मदद मिलती है। इससे बालों की कोशिकाओं को रक्त धमनियों में पोषाहार की आपूर्ति होती है, जिससे बालों की आकर्षक वृद्धि होती है।